Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

कितने सावन बीते हैं

कितने सावन बीते हैं यूँ उनके इंतजार में
कितने सावन बीते हैं भीगे हमें फुहार में
ना वो आए ना ही कोई खबर
होता नहीं है अब दिल में सब्र
कितने सावन बीते हैं यूँ उनके इंतजार में
कितने सावन बीते हैं भीगे हमें फुहार में
हर कोई है क्यूँ मुझसे खफा
और जिंदगी भी है ये बेवफा
कितने सावन बीते हैं यूँ उनके इंतजार में
कितने सावन बीते हैं भीगे हमें फुहार में
‘विनोद’दिल का है क्या कुसूर
जो हो गए हैं सब दिल से दूर
कितने सावन बीते हैं यूँ उनके इंतजार में
कितने सावन बीते हैं भीगे हमें फुहार में

स्वरचित
( विनोद चौहान )

3 Likes · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
*वक्त की दहलीज*
*वक्त की दहलीज*
Harminder Kaur
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
#बड़ा_सच-
#बड़ा_सच-
*Author प्रणय प्रभात*
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
लक्की सिंह चौहान
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
मुझको तो घर जाना है
मुझको तो घर जाना है
Karuna Goswami
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
गुमनाम 'बाबा'
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
3162.*पूर्णिका*
3162.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
Loading...