Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

कितनी ही दफा मुस्कुराओ

कितनी ही दफा मुस्कुराओ
दफा नही लगती
जहाँ दफा लगती हो
वहां से जल्दी दफा हो जाओ
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
बारह ज्योतिर्लिंग
बारह ज्योतिर्लिंग
सत्य कुमार प्रेमी
मेहनती मोहन
मेहनती मोहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
🙅कमिंग सून🙅
🙅कमिंग सून🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
💐प्रेम कौतुक-522💐
💐प्रेम कौतुक-522💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
प्यार जताना नहीं आता मुझे
प्यार जताना नहीं आता मुझे
MEENU
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
So many of us are currently going through huge energetic shi
So many of us are currently going through huge energetic shi
पूर्वार्थ
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
सब की नकल की जा सकती है,
सब की नकल की जा सकती है,
Shubham Pandey (S P)
चंद्रशेखर आजाद (#कुंडलिया)
चंद्रशेखर आजाद (#कुंडलिया)
Ravi Prakash
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
Vivek Pandey
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
Loading...