Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..

कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..

आँखें अश्रुपूरित
ख़ुद को समझाना
खूब अधिक समझाना
फिर कुछ नहीं समझ आना
फिर केवल एक विकल्प
सिसकियों के साथ रो लेना चुपचाप

निरंतर इसी क्रम का चलना
कब तक चलेगा उपर्युक्त पुनरारुक्ति
यह भी कुछ पता नहीं
आपका भी कमोबेश यही हाल होगा
यह सोचकर पीड़ा का कई गुना हो जाना

कितने मज़बूर है हम लोग
क्या कर सकते है, क्या नहीं कर सकते
कुछ नहीं कर सकते , क्या कुछ कर सकते है?
नैतिकता व प्रेम के दुश्जाल , द्वन्द में पड़े है
कब तक रहेंगे यह भी पता नहीं ..

क्या कभी निकल भी पाएँगे पता नहीं
शायद इस जीवन में नहीं ही ..

165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
"जो होता वही देता"
Dr. Kishan tandon kranti
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ लोकतंत्र पर बदनुमा दाग़
■ लोकतंत्र पर बदनुमा दाग़ "वोट-ट्रेडिंग।"
*Author प्रणय प्रभात*
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
Lines of day
Lines of day
Sampada
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
3394⚘ *पूर्णिका* ⚘
3394⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
Loading...