Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

कितना अजीब ये किशोरावस्था

कितना अजीब ये किशोरावस्था
जिसे वे टीन एज कहते हैं
क्यूं जान नहीं पाते हैं वे
की इस वक्त से सभी गुज़रते हैं
गुज़र कर वक्त से सबने अपनी मंजिल पाई है
फिर क्यूं वे संघर्ष की आंधियों से से डरते हैं
इंद्रियों पर नियंत्रण करना पड़ता है
जो नहीं करते वे ही बिखरते हैं
थोड़े धीरज सहनशीलता और दृढ़ता से
फिर दुनिया से आगे निकल वे ही निरखते हैं ।

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नव वर्ष गीत
नव वर्ष गीत
Dr. Rajeev Jain
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
VINOD CHAUHAN
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
My City
My City
Aman Kumar Holy
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
राम राज्य
राम राज्य
Shriyansh Gupta
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
Ravi Prakash
........,!
........,!
शेखर सिंह
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
Loading...