Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2018 · 2 min read

काश तुम समझ पाते

सादर प्रेषित
मेरी अदृश्य डायरी से एक पृष्ठ…….
काश! तुम समझ पाते मेरे दिल के हालात् !
कैसे कहूँ? शब्द निशब्द हुए जाते हैं………………कहने को……………… ॥

काश!!!तुम समझ पाते कि जब चुना था तुम्हें, तो अटूट विश्वास था तुमपे, हालांकि सामने होते हुए भी घबराहट और सकुचाहट की वजह से चेहरा नहीं देख पाई थी तुम्हारा, सिर्फ बाज़ू का कफ ही देख रही थी।सबको अच्छा जँचे थे तुम।जब तुमसे फोन पर बात हुई थी तब तुम्हारी आवाज़ किसी फिल्मी हीरो की तरह बहुत पसंद आई थी मुझे, एक खनक सी थी तुम्हारी आवाज़ में।तुम्हारी और तुम्हारी भाबी की बातें भाने लगी थी मुझे, बहुत सपने जो दिखा दिए थे तुम दोनों ने मुझे, कितनी आस लगाए बैठी थी मैं, अगर चींटी भी पास से निकलती तो तुम दोनों की बड़ाई करते नहीं थकती थी मैं।तुमने भी तो कहा था कि हम पति पत्नी के रिश्ते से पहले अच्छे मित्र होंगे मगर…..! सब धोखा ही तो था,तुम्हारे परिवार का मेरे परिवार से, हाँ बुद्धि नहीं थी मुझमें जो तुम्हारे परिवार के खिलाफ आवाज़ नहीं उठा पाई और तुम्हारे कहने पर सबको बर्दाश्त करती रही ये सोचकर कि तुम मेरे साथ हो, पर तुम तो कहीं और ही व्यस्त थे, अपना जीवन जी रहे थे।काश! तुम समझ पाते क्या गुज़रती थी मुझ पर,सुना था 12 वर्ष में तो कूड़े के भाग्य भी जाग जाते हैं शायद मेरी किस्मत उससे भी बद्तर थी,उस पर भी तुम लोगों ने मुझे घर से निकालना चाहा, और मुझे अकेला छोड़कर अपनी माँ के अहम एवं झूठ को संतुष्ट करने चले गए।काश, तुम समझ पाते तुम्हारी दो ज़िम्मेदारियों के साथ वो समय कैसे निकाला था मैंने, पापा के साथ जाने से मना कर दिया मैंने।हर पल चिता सी जलती थी मैं, तुम्हारी हरकतों के जवाब मंदिर की मूरतों से पूछती थी मैं, मेरे अंतर्मन में किसी ज्वालामुखी सी द्वंद और वेदना को काश! तुम समझ पाते मेरे माता-पिता,भाई- बहनों पर क्या गुज़री होगी, हमारे 7 साल के बेटे की क्या मनःस्थिति रही होगी, जो भाई छोटे छोटे थे हमारी शादी में वो मेरे कंधे बनकर खड़े हुए थे, मेरी बहन संयुक्त परिवार में रहते हुए भी मेरी ताकत थी, क्या गुज़री होगी मुझपर जब पड़ोसी तुम्हारे बारे में पूछते थे, आखिर तुम लौटे पर झूठे अहम के साथ। काश तुम समझ पाते कि तुमने तो अपनी ज़िंदगी का हर पल जी भर के जिया और मैं आज21 वर्ष पश्चात भी यही सोचकर ग़म के घूंट पीती रहती हूँ कि काश!!! तुम समझ पाते कि मेरे भी कुछ सपनें हैं।काश!!!! ये काश शब्द न होता काश तुम समझ पाते…………!!!

नीलम शर्मा…….✍️

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 592 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोयम दर्जे के लोग
दोयम दर्जे के लोग
Sanjay ' शून्य'
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
कृष्ण की राधा बावरी
कृष्ण की राधा बावरी
Mangilal 713
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
तेरी आंखों की बेदर्दी यूं मंजूर नहीं..!
तेरी आंखों की बेदर्दी यूं मंजूर नहीं..!
SPK Sachin Lodhi
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
काश
काश
Sidhant Sharma
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
शेखर सिंह
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
शुभ प्रभात संदेश
शुभ प्रभात संदेश
Kumud Srivastava
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
Our ability to stay focused on the intellectual or creative
Our ability to stay focused on the intellectual or creative
पूर्वार्थ
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...