Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2023 · 1 min read

काला न्याय

न्याय व्यवस्था देख के, बढ़ते यहाँ अपराध।
तारीख पर तारीख से, बढ़ता रहे अपराध।।

चोर लुटेरो अपराधी, संग दिखता न्याय।
देरी से मिलता न्याय, वह भी है अन्याय।।
देरी से मिलते न्याय का, होता है नुकसान।
समय, धन व संताप का, लगाओ अनुमान।।

जन्मभूमि पर कब्जे को, खप गई पीढ़ी चार।
फिर भी नही मिलता है, भूमि पर अधिकार।।
यहा अग्रेजी न्याय से, हो रहा व्यापार।
पैसो के दम पर मिलता, घर बैठे अधिकार।।

काले कोट काली टाई, करते काला न्याय।
दोषी विदेशो मे घूमते, निर्दोष जेल बिठाय।।
न्यायपालिका मे देरी, के वह सभी जिम्मेदार।
शपथ लेकर संविधान कि, वेतन भत्ते के हकदार

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
श्याम सिंह बिष्ट
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
Shweta Soni
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
मां शारदे कृपा बरसाओ
मां शारदे कृपा बरसाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
अनिल अहिरवार"अबीर"
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2256.
2256.
Dr.Khedu Bharti
शव शरीर
शव शरीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
कौसानी की सैर
कौसानी की सैर
नवीन जोशी 'नवल'
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-526💐
💐प्रेम कौतुक-526💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
मित्र कौन है??
मित्र कौन है??
Ankita Patel
कुछ दर्द।
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
Loading...