Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2022 · 1 min read

सच मानो

गीत

जब से सीखी इन हाथों ने, करनी याचना
सच मानो, तभी से कायर हो गईं भावना।

दरवाज़े दस्तक को भूले, अतिथि मौन खड़े
हम न जावें कोई न आवे विकट भाव अड़े
मृगतृष्णा जब हो चौखट, कौन कहे देवो
उखड़ उखड़ कर ढूंढे सांसे कौन है मेरो

जब से छोड़ी इन कानों ने, सुननी प्रार्थना
सच मानो, तभी से कायर हो गई भावना

अब तो आदत पड़ चुकी यहाँ, क़र्ज़ लेने की
ख़्वाहिशों के घर बिस्तर, बस फ़र्ज़ निभाने की
कांपे रूह देख देख कर, अपने रोशनदान
काँच काँच बिखरा है भू पर, अक्स हिंदुस्तान

जब से भूली इन आँखों ने, करनी साधना
सच मानो, तभी से कायर हो गई भावना।।

एक कटोरी चीनी-पत्ती, घंटों फिर बातें
ले आंखों में चित्रहार, कट जाती थीं रातें
बुनें स्वेटर, डालें फंदे, भूल गये धागे
कैसी दौड़ इस जीवन की, सब के सब भागे

जब से भोगी इस बस्ती ने, सहनी यातना
सच मानो, तभी से कायर, हो गई भावना

सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Suryakant Dwivedi
View all
You may also like:
*अच्छे बच्चे (बाल कविता)*
*अच्छे बच्चे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
"होगी जीत हमारी"
Dr. Kishan tandon kranti
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
दीपक झा रुद्रा
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
लड़के हमेशा खड़े रहे
लड़के हमेशा खड़े रहे
पूर्वार्थ
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
3679.💐 *पूर्णिका* 💐
3679.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
Why always me!
Why always me!
Bidyadhar Mantry
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
221/2121/1221/212
221/2121/1221/212
सत्य कुमार प्रेमी
आँखों में अँधियारा छाया...
आँखों में अँधियारा छाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
नारी : एक अतुल्य रचना....!
नारी : एक अतुल्य रचना....!
VEDANTA PATEL
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
गुमनाम 'बाबा'
लोट के ना आएंगे हम
लोट के ना आएंगे हम
VINOD CHAUHAN
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
Slok maurya "umang"
इस तरफ न अभी देख मुझे
इस तरफ न अभी देख मुझे
Indu Singh
मैं तो ईमान की तरह मरा हूं कई दफा ,
मैं तो ईमान की तरह मरा हूं कई दफा ,
Manju sagar
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
■ आज का शेर...।
■ आज का शेर...।
*प्रणय प्रभात*
Loading...