Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

काम और भी है, जिंदगी में बहुत

शीर्षक – काम है और भी, जिंदगी में बहुत
—————————————————————–
काम है और भी, जिंदगी में बहुत।
पूरा करना जरूरी है जिनको भी मुझे।।
जिंदगी जिनसे भी तो होगी आबाद मेरी।
रखना है सबका ही तो ख्याल भी मुझे।।
काम है और भी————————।।

माना कि तुमको चाहिए, प्यार मेरा।
और निभाना है मुझको साथ तेरा।।
लेकिन उनको भी है इंतजार मेरा।
उनसे भी तो मिलने जाना है मुझे।।
काम है और भी————————।।

जिनका है मुझपे कर्ज, वह चुकाना भी है।
खुश उनको भी तो, मुझको रखना भी है।।
दिया है जिन्होंने , जन्म मुझको कल।
सेवा उनकी भी तो, करनी है मुझे।।
काम है और भी————————।।

बिना मेहनत किये, पेट कैसे भरें।
बिना जल के चमन, हरा कैसे करें।।
महल का ख्वाब अगर, करना है पूरा।
बहुत पसीना इसके लिए, बहाना होगा मुझे।।
काम है और भी————————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
There is no shortcut through the forest of life if there is
There is no shortcut through the forest of life if there is
सतीश पाण्डेय
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
तुम पतझड़ सावन पिया,
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
"कुछ तो सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
सुनों....
सुनों....
Aarti sirsat
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
ये दुनिया थोड़ी टेढ़ी है, तू भी बगल कटारी रख (हिंदी गजल/गीति
ये दुनिया थोड़ी टेढ़ी है, तू भी बगल कटारी रख (हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
2396.पूर्णिका
2396.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
"बहुत से लोग
*Author प्रणय प्रभात*
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
मियाद
मियाद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...