Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

कान में रखना

हुई विदा बेटी समझाने लगी मां कान में
कान में ही रखना जो सुनो तुम कान से।
कान में कहने की आदत तुम डालो बेटी,
कहा जो भी जोर से होगी बात बड़ी छोटी।

गलती पड़े जो कान में रखना अपने दिमाग में,
सुधार कर लेना खुद में ही जीना तुम शान से।
कान में ही कहना मन की रखना सरल अंदाज,
मत होने देना छोटी छोटी बातों से रिश्ते खराब।

कान लगाएंगे जब सब सुनने को तेरे मन की,
मन में रखना दुख अपना कहना सबके मन की।
जीवन होता है सरल मुश्किल होती आसान,
सुनके जो कुछ बातों को न खींचे उनकी तान ।

कान नहीं लगाना तुम सुनने को दूसरों की बात,
बुरा भला सुनकर मत अपने मन को करना खराब।
ध्यान उसी पर देना लगे बात जो निज काम की ,
कहा सुनी पर लोगों की मत करना अनर्थ प्रलाप।

स्वरचित एवम मौलिक
कंचन वर्मा
शाहजहांपुर
उत्तर प्रदेश

Language: English
70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सुर्खी में आने और
*Author प्रणय प्रभात*
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
3191.*पूर्णिका*
3191.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
💐प्रेम कौतुक-431💐
💐प्रेम कौतुक-431💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
'पिता'
'पिता'
पंकज कुमार कर्ण
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
*जिंदगी में बड़ा शत्रु अभिमान है (मुक्तक)*
*जिंदगी में बड़ा शत्रु अभिमान है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
Neerja Sharma
Loading...