Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

कहे करेला नीम से

कहे करेला नीम से, थाम हमारा हाथ ।
कड़वे हैं तो क्या हुआ,हैं तो दोनों साथ ।।

तिक्त बनूँ मैं और गर,मिले तुम्हारा साथ ।
छुरी तुम्हारे पास तो , खंजर मेरे हाथ ।।
रमेश शर्मा.

Language: Hindi
1 Like · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*आया फागुन लग रही, धरती माया-लोक (कुंडलिया)*
*आया फागुन लग रही, धरती माया-लोक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA
नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बहुजन विमर्श
बहुजन विमर्श
Shekhar Chandra Mitra
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
यह तेरा चेहरा हसीन
यह तेरा चेहरा हसीन
gurudeenverma198
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
💐प्रेम कौतुक-376💐
💐प्रेम कौतुक-376💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
दुष्यन्त 'बाबा'
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिनकर की दीप्ति
दिनकर की दीप्ति
AJAY AMITABH SUMAN
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
खिंचता है मन क्यों
खिंचता है मन क्यों
Shalini Mishra Tiwari
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
"आशा-तृष्णा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...