Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

मकर संक्रांति

कहीं हैं धूम लोहड़ी की कहीं बिहू की रौनकें हैं
कहीं कहते इसे खिचड़ी कहीं घुघुतिया कहते हैं
करता है प्रवेश जब मकर राशि में दिनकर तब
कहीं पोंगल इसे तो कहीं उत्तरायण भी कहते हैं

शुभ मकर संक्रांति।

संजय श्रीवास्तव
बालाघाट मध्यप्रदेश
9425822488

102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
प्रदूषण-जमघट।
प्रदूषण-जमघट।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2628.पूर्णिका
2628.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कैसा जुल्म यह नारी पर
कैसा जुल्म यह नारी पर
Dr. Kishan tandon kranti
अहमियत हमसे
अहमियत हमसे
Dr fauzia Naseem shad
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*
Ravi Prakash
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
मेरी कविता
मेरी कविता
Raju Gajbhiye
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Prapancha mahila mathru dinotsavam
Prapancha mahila mathru dinotsavam
jayanth kaweeshwar
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
अब  रह  ही  क्या गया है आजमाने के लिए
अब रह ही क्या गया है आजमाने के लिए
हरवंश हृदय
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
Vivek Ahuja
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
उफ़ ये कैसा असर दिल पे सरकार का
उफ़ ये कैसा असर दिल पे सरकार का
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
Loading...