Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2022 · 1 min read

कहां पता था

सोचा था #उजियारा होगा
हाथ में हाथ तुम्हारा होगा
अरुणोदय की नव प्रज्ञा से
पथ आलोकित सारा होगा

कहां पता था मधुबन की सब कोंपल बीनोगी आकर
मेरे उपवन के भविष्य को पल में छीनोगी आकर
मृदुल भाव से अभिसिंचित कर महकाया था जो आंगन
घृणा द्वेष षड्यंत्रों के विष उसमें घोलोगी आकर

हाय कहां सोचा था हमने प्रातः में अंधियारा होगा

सोचा था #उजियारा होगा
हाथ में हाथ तुम्हारा होगा
#अरुणोदय की नव प्रज्ञा से
पथ आलोकित सारा होगा

कहां पता था अब #दोपहरी शूल समान चुभेगी मुझको
#दोपहरी की पछुआ बनकर सर्प समान डसेगी मुझको
हमने सोचा था तुम #शीतल छाया बनकर आओगी
नहीं पता था तुम #अग्नि का स्वयं सूर्य बन जाओगी

हाय कहां सोचा था #प्रज्वल सब संसार हमारा होगा

सोचा था #उजियारा होगा
हाथ में हाथ तुम्हारा होगा
#अरुणोदय की नव प्रज्ञा से
पथ आलोकित सारा होगा

अनथक श्रम से क्लान्त बदन जब #संध्या को घर आयेगा
#बाहुपाश में प्रिय #मधुराधर से #रसपान करायेगा
मेरे मन की सारी गांठें धीरे धीरे खोलेगा
अपनी मधुर मधुर वाणी से रस कानों में घोलेगा

कहां पता था #दुग्ध #कुम्भ में #दधि सा मिलन हमारा होगा

सोचा था #उजियारा होगा
हाथ में हाथ तुम्हारा होगा
#अरुणोदय की नव प्रज्ञा से
पथ आलोकित सारा होगा

Language: Hindi
6 Likes · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम
राम
Suraj Mehra
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपने दिल की बात कहना  सबका हक होता है ,
अपने दिल की बात कहना सबका हक होता है ,
Manju sagar
हर रोज़
हर रोज़
Dr fauzia Naseem shad
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
पिता
पिता
Dr. Rajeev Jain
24/01.*प्रगीत*
24/01.*प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
संस्कृति
संस्कृति
Abhijeet
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
*आदित्य एल-1मिशन*
*आदित्य एल-1मिशन*
Dr. Priya Gupta
उस रात रंगीन सितारों ने घेर लिया था मुझे,
उस रात रंगीन सितारों ने घेर लिया था मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
सबको
सबको
Rajesh vyas
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
याद कब हमारी है
याद कब हमारी है
Shweta Soni
Loading...