Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 1 min read

कहां छुपाऊं तुम्हें

हर कोई करना चाहता है प्रेम तुम्हें
क्या तुम ऐसे ही मान जाओगे
मर जाऊंगा मैं तो जीते जी ही
गर तुम अपना घूंघट उठाओगे

हो रहा है संदेह मुझे आज
है इस हवा नीयत भी ठीक नहीं
जाने कब छू लेगी तेरे होंठों को
तू तो उसे कुछ कहेगी भी नहीं

बैठा है वो तालाब भी
आज आस लगाए तुमसे
आओगे नहाने कभी तो
हसीं मिलन होगा तभी तुमसे

सूरज की किरणें भी आज
बार बार बादलों को है चीर रही
लोग तरसते हैं उसके लिए
वो आज तुझे छूने को तरस रही

कैसे बचाऊं मैं तुम्हें इन बादलों से
तुले हैं जो तुझे आज भिगोने पर
देख रहे हैं मौका कब तू बाहर आए
और वो धीरे से बरस पड़े तुम पर

कसूर नहीं है समंदर की लहरों का भी
जो आज मचल रही है ज़्यादा
नहीं जाएगी आज समंदर के नज़दीक तू
है कसम तुझे, कर मुझसे तू ये वादा

है इस चांद को भी इंतज़ार तेरा
इसे भी देखना है ये यौवन तेरा
पड़ी है छाया अमावस्या की इस पर
अब इसे भी तो चाहिए ये नूर तेरा।

Language: Hindi
11 Likes · 2 Comments · 903 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
💐अज्ञात के प्रति-85💐
💐अज्ञात के प्रति-85💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
कल और आज जीनें की आस
कल और आज जीनें की आस
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
*Author प्रणय प्रभात*
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*
*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चलो दूर चले
चलो दूर चले
Satish Srijan
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डॉक्टर्स
डॉक्टर्स
Neeraj Agarwal
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
Shweta Soni
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
Shakil Alam
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
मन-मंदिर में यादों के नित, दीप जलाया करता हूँ ।
मन-मंदिर में यादों के नित, दीप जलाया करता हूँ ।
Ashok deep
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
shabina. Naaz
Loading...