Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

*कहर है हीरा*

कहर है हीरा

बना देता है अंधा
अपनी चकाचौंध से
कीमती से ज्यादा
ज़हर है हीरा ….
मिट गए कितने उसे
पाने की दौड़ में
सुंदरता से ज्यादा
कहर है हीरा ….
– क्षमा उर्मिला

2 Likes · 2 Comments · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kshma Urmila
View all
You may also like:
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अतीत के पन्ने (कविता)
अतीत के पन्ने (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
मजबूरी नहीं जरूरी
मजबूरी नहीं जरूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
■ आज का निवेदन...।।
■ आज का निवेदन...।।
*Author प्रणय प्रभात*
गर्भपात
गर्भपात
Bodhisatva kastooriya
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल
फूल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...