Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 1 min read

कविता

इस उतरती सांझ में….”(कविता)
चलो इस उतरती सांझ में
पहाड़ की गोद में बैठ कर
सिंदूरी धूप को शिखर चूमते हुए देखें ।

चलो इस उतरती सांझ में
दरिया के किनारे बैठ कर
उछलती गिरती लहरों को तट चूमते हुए देखें ।

चलो इस उतरती सांझ में
किसी पेड़ के नीचे बैठकर
नीड़ की ओर लौटते पंछियों का नर्तन देखें ।

चलो इस उतरती सांझ में
किसी पगडंडी पर बैठकर
थके-हारे बटोही को घर लौटते हुए देखें

चलो इस उतरती सांझ में
किसी उपवन में बैठकर
भंवरों को पंखुड़ियों पर प्रणय-गीत लिखते हुए देखें।

चलो इस उतरती सांझ में
किसी चूल्हे के पास बैठकर
आग की गर्माहट में मुहब्बतें पकती हुई देखें ।

चलो इस उतरती सांझ में
प्रियतम की गोद में सिर रखकर हवा को
जिंदगी की किताब के पन्ने पलटते हुए देखें ।

चलो इस उतरती सांझ में
कलम को कागज के हृदय पर सबके लिए
इबादत की नज्में लिखते हुए देखें ।

Language: Hindi
372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
रेखा कापसे
ज़िम्मेदार कौन है??
ज़िम्मेदार कौन है??
Sonam Puneet Dubey
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी हमें किस्तो में तोड़ कर खुद की तौहीन कर रही है
जिंदगी हमें किस्तो में तोड़ कर खुद की तौहीन कर रही है
शिव प्रताप लोधी
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
सुख - एक अहसास ....
सुख - एक अहसास ....
sushil sarna
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
" मेरी ओकात क्या"
भरत कुमार सोलंकी
आनंद से जियो और आनंद से जीने दो.
आनंद से जियो और आनंद से जीने दो.
Piyush Goel
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चोर कौन
चोर कौन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
जन्मदिन का तोहफा**
जन्मदिन का तोहफा**
Bindesh kumar jha
अच्छी तरह मैं होश में हूँ
अच्छी तरह मैं होश में हूँ
gurudeenverma198
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
2855.*पूर्णिका*
2855.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*दादू के पत्र*
*दादू के पत्र*
Ravi Prakash
Loading...