Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

कविता – “बारिश में नहाते हैं।’ आनंद शर्मा

कविता – “बारिश में नहाते हैं।’
आनंद शर्मा।

ढलती उम्र में थोड़ा
बचपन लाते है
आओ बारिश में
आज फिर से नहाते हैं।

कागज़ की नाव,
उसमे अपने नाम का झंडा
इक चींटी को उस नाव का
मुसाफिर बनाते हैं,
बारिश में आज फिर से नहाते हैं।

एक आध बचे पेड़ पर
रस्सा डालकर ,
फिर से एक झूला बनाते हैं
और पटडी पर सबसे पहले,
तीज को झुलाते है
आज बारिश में फिर से नहाते हैं।

मांग साइकिल किसी बच्चे की
गलियों में बनी नहरों में,
बिना काम के यूँ ही
चक्कर लगाते हैं
आओ बारिश में आज फिर से नहाते हैं।

ढूंढो, कोई बचा हो जामुन का पेड़,
सावन की रिमझिम में,
पेड़ पर चढ़कर
कच्चे पक्के जैसे मिल जाएं
जामुन तोड़कर जीत का जश्न मनाते हैं।
आओ बारिश में आज फिर से नहाते हैं।

गर याद न भी हो माँ की रेसिपी
तो भी आड़े-टेढ़े, चकोर, तिरछे,
जैसे बन जाएं वैसे
पूड़े पकाते हैं।
और आम के अचार के साथ उसकी
दावत उड़ाते हैं।
आज बारिश में फिर से नहाते हैं।

और ये बारिश नहीं है
असल में…
ये बारिश नहीं है
ये तो ईश्वर ने खुशी के कुछ पल भेजे हैं..
अपनी अनंत दौड़ में से
कुछ पल सिर्फ अपने लिए चुराते हैं।
किसी पार्क की बैंच पर बैठकर,
बारिश के बोसे खुद को महसूस कराते हैं।
आज बारिश में फिर से नहाते हैं।

Language: Hindi
1 Like · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
"सितम के आशियाने"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी गजब कहानी....
अपनी गजब कहानी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
3011.*पूर्णिका*
3011.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उलझनें रूकती नहीं,
उलझनें रूकती नहीं,
Sunil Maheshwari
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
ruby kumari
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr Shweta sood
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
Shekhar Chandra Mitra
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
बेवफाई उसकी दिल,से मिटा के आया हूँ।
बेवफाई उसकी दिल,से मिटा के आया हूँ।
पूर्वार्थ
Loading...