Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 2 min read

व्यंग्य कविता- “गणतंत्र समारोह।” आनंद शर्मा

व्यंग्य कविता- “गणतंत्र समारोह।”
आनंद शर्मा

बड़ी अंडाकार मेज़
के चारों तरफ
करीब बीस गणमान्य
विराजमान थे।
टेबल पर चाय समोसा
ढोकला बर्फी यानी
चाय पार्टी के
सारे समान थे।
एजेंडा था
गणतंत्र दिवस कैसे मनाया जाए?
झंडा फहराया जाए या लहराया जाए
ड्रेस कोड, मेल और फीमेल
हलवाई, मिठाई
गाना, बजाना सहित
सब विषयों पर चर्चा
का प्रस्ताव था,
क्योंकि समारोह शब्द से
कमोबेश सभी को लगाव था।

तीन घंटे की गहन मंत्रणा
पाँच प्लेट समोसे,
दस प्लेट ढोकले,
और तीस कप
चाय का हुआ क्षय था
उसके बाद सब तय था,
मिठाई का ठेका
कल्लू हलवाई को
दिया जायेगा।
बदले में मिनरल वाटर
फ्री में लिया जाएगा।
फ्री पानी के इनवॉइस से,
नमकीन का भुगतान होगा।
इस तरह लगभग
मुफ्त में जलपान होगा।
चार लड्डुओं की
पैकिंग का ठेका,
दुर्गा स्वीट्स के
नाम किया जाएगा।
और कार्यक्रम का
मुख्य प्रायोजक बना कर,
लड्डुओं के आलावा
उस से पचास हज़ार
अलग से लिया जाएगा।
गलती से भी किसी का
कुछ नुकसान न हो,
ये आशंका भी
बड़े बाबू ने दूर कर दी।
उन्होंने आयोजन के बदले
पूरे स्टाफ की
एक वैकल्पिक छुट्टी
मंज़ूर कर दी।

अब बचा था चीफ गेस्ट
यही था सबसे मुश्किल टेस्ट
एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया
छोटा सा था-
आए तो कुछ लेकर आए।
जाए तो कुछ देकर जाए।
जब मशक्कत के बाद भी
कोई फाइनल नही हो पाया
तब छोटू एक हाथ में
चाय की केतली और
दूसरे हाथ में छः गिलास लेकर
अंदर आया।
उसे देखते ही
बड़े बाबू की आँखे चमकी।
उनकी कुटिल बुद्धि में
एक बात ठनकी।
उन्होंने छोटू के सर पर
सीधा बॉम्ब फोड़ा
झंडा फहराओगे?
सोच लो तालियों के
साथ-साथ
अखबार में फोटो
भी पाओगे।
श्याम वर्ण छोटू
मोतियों जैसे दांतों से मुस्काया।
बड़े बाबू में उसे
भगवान नजर आया।
उसने हाँ में बहुत देर तक
सिर हिलाया।
साब! वाकई इस देश में
जनता का राज है।
आप जैसा देवपुरुष
मेरे हाथ की चाय पीता है
इस एहसास से ही
मुझे खुद पर नाज़ है।
बड़े बाबू ने बात को
बीच में लपका।
पूरा कप चाय
एक सांस में गटका।
और बड़ी धूर्तता के साथ बोले-

अच्छा कहो
क्या देश की खातिर
कल कार्यक्रम में सबकी
फ्री में चाय सेवा
कर सकते हो?
गर्व की भावना से भरा छोटू
कुछ कह न पाया।
बस आँखों में खुशी के अश्रु लिए
छोटी-सी गर्दन को
हाँ में हिलाया।
अगले दिन झंडा फहराने
की एवज़ में
छोटू ने कई बार
सबको चाय पिलाई।
अपनी पूरी कमाई
एक दिन में लुटाई।

बड़े बाबू खुश थे कि
देश के नाम पर
उन्होंने एक गरीब को
लूट लिया है।
छोटू को गर्व था कि
गरीब होकर भी
आज उसने देश
के लिए कुछ किया है।
इस देश के लिए
कुछ किया है।

आनंद शर्मा, हिसार

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
Er. Sanjay Shrivastava
नश्वर है मनुज फिर
नश्वर है मनुज फिर
Abhishek Kumar
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
अपवित्र मानसिकता से परे,
अपवित्र मानसिकता से परे,
शेखर सिंह
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कवि दीपक बवेजा
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
#तस्वीर_पर_शेर:--
#तस्वीर_पर_शेर:--
*Author प्रणय प्रभात*
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
ज़िंदगी ने कहां
ज़िंदगी ने कहां
Dr fauzia Naseem shad
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सत्य की खोज
सत्य की खोज
SHAMA PARVEEN
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...