Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

कलयुगी की रिश्ते है साहब

कलयुगी की रिश्ते है साहब
अफसोस मत कीजिए
आज मुझ पर हंस रहे हैं लोग
कल उन पर भी हंसेंगे।

2 Likes · 273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतहीन
अंतहीन
Dr. Rajeev Jain
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
माँ मेरी जादूगर थी,
माँ मेरी जादूगर थी,
Shweta Soni
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
अनमोल
अनमोल
Neeraj Agarwal
मेरी अधिकांश पोस्ट
मेरी अधिकांश पोस्ट
*प्रणय प्रभात*
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्त न बन सकी
दोस्त न बन सकी
Satish Srijan
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Consistency does not guarantee you you will be successful
Consistency does not guarantee you you will be successful
पूर्वार्थ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
शेखर सिंह
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
Ravi Prakash
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बुंदेली दोहा- अस्नान
बुंदेली दोहा- अस्नान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...