Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

कलम घिसाई एक मुक्तक 32 मात्रिक भार की

आज मैं ऊँचे आसन पर मसनद के सहारे बैठा हूँ।

देख जमीन पर लोगो को खूब घमन्ड में ऐंठा हूँ।
इस आसन पर चढ़ने में पर कितना जियादा गिरा हूँ में।
पता नही किस किस के दर पर उनके चरणों में लेटा हूँ।

मधु गौतम 9414764891

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
205 Views
You may also like:
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"पति परमेश्वर "
Dr Meenu Poonia
करें नहीं ऐसे लालच हम
gurudeenverma198
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
मां
Sushil chauhan
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये दुनियाँ
Anamika Singh
घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
ग्रहण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अतीतजीवी (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
उलझनों से तप्त राहें, हैं पहेली सी बनी अब।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
प्यार
Satish Arya 6800
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
✍️✍️ओढ✍️✍️
'अशांत' शेखर
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीने की वजह
Seema 'Tu hai na'
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
ज़िंदा है भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
सच्चा आनंद
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
प्रेम पर्दे के जाने """"""""""""""""""""""'''"""""""""""""""""""""""""""""""""
Varun Singh Gautam
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
ओ साथी ओ !
Buddha Prakash
Loading...