Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2022 · 1 min read

कर रहे शुभकामना…

कर रहे शुभकामना…
पर्व है गणतंत्र दिवस का, राष्ट्र की आराधना।
अखंड भारत देश रहे ये, कर रहे शुभकामना।

सबके सुख-दुख अपने सुख-सुख,
भाव मन में पुष्ट हो।
भेद-भाव की बात न हो अब,
हर मनुज संतुष्ट हो।
पनपे ना वृत्ति छल-कपट की
बनी रहे सद्भावना।

कर रहे शुभकामना….

जाति-वर्ग औ संप्रदाय की,
टूटें सब दीवारें।
गद्दारी जो करें देश से,
चुन-चुन उनको मारें।
विपदा आए कोई यदि तो,
मिल करें सब सामना।

कर रहे शुभकामना….

कोई बच्चा देश का मेरे,
रहे न भूखा-नंगा।
कर्तव्यों के हिम से निकले,
अधिकारों की गंगा।
हो सदैव उद्देश्य हमारा,
गिर रहे को थामना।

कर रहे शुभकामना….

स्वार्थ रहित हों कर्म सभी के,
राष्ट्र-मंगल से जुड़े।
गुलाम रहे न जन अब कोई,
मुक्त अंबर में उड़े।
प्रेम-भाव भर अमिट रिदय में,
मिटा कलुषित भावना।

कर रहे शुभकामना….

आत्मनिर्भर बनें भारत-जन,
सुप्त बोध सब जागें।
कर्मठता हो, कर्म श्रेष्ठ हों,
जड़ता मन की त्यागें।
रामराज्य का स्वप्न नहीं तो,
है महज उद्भावना।

कर रहे शुभकामना….

© डॉ.सीमा अग्रवाल
जिगर कॉलोनी, मुरादाबाद
साझा संग्रह ‘साहित्य किरण’ में प्रकाशित

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
"बँटबारे का दंश"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी मौत,पर
ज़िंदगी मौत,पर
Dr fauzia Naseem shad
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
Sukoon
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
Shreedhar
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
नये गीत गायें
नये गीत गायें
Arti Bhadauria
युद्ध
युद्ध
Shashi Mahajan
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
मेरे पास खिलौने के लिए पैसा नहीं है मैं वक्त देता हूं अपने ब
मेरे पास खिलौने के लिए पैसा नहीं है मैं वक्त देता हूं अपने ब
Ranjeet kumar patre
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
*प्रणय प्रभात*
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी का भरोसा कहां
जिंदगी का भरोसा कहां
Surinder blackpen
"यादों के झरोखे से"..
पंकज कुमार कर्ण
Loading...