Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2023 · 1 min read

करवाचौथ

टिकी नज़रें गगन पर हैं निकल भी चाँद अब आओ
छिपे हो बादलों में क्यों जरा मुखड़ा तो दिखलाओ
रखा उपवास है मैंने करूं पूजन तुम्हारा मैं
सुहागन ही रहूँ मुझको यही वरदान दे जाओ

डॉ अर्चना गुप्ता
03-11-2023

Language: Hindi
1 Like · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
Surinder blackpen
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
नारी
नारी
नन्दलाल सुथार "राही"
मुहब्बत की दुकान
मुहब्बत की दुकान
Shekhar Chandra Mitra
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
NUMB
NUMB
Vedha Singh
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
डॉक्टर रागिनी
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
*Near Not Afar*
*Near Not Afar*
Poonam Matia
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इस बार
इस बार "अमेठी" नहीं "रायबरैली" में बनेगी "बरेली की बर्फी।"
*Author प्रणय प्रभात*
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
सत्य क्या है?
सत्य क्या है?
Vandna thakur
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
शेखर सिंह
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
Loading...