Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2023 · 1 min read

करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम

तब थे क्यों दूर हमसे तुम।
जब थे करीब तुमसे हम।।
अब क्यों जरूरत हमारी है।
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम।।
तब थे क्यों दूर ——————।।

लिखे थे खत तुमको हमने।
बताने को तुमको सपनें अपने।।
उम्मीद थी तुम यकीन करोगे।
पूछते हो क्यों हाल, अब हमसे तुम।।
तब थे क्यों दूर———————।।

ऐसे तो पहले तुम नहीं थे।
दिल से करीब तुम नहीं थे।।
कहते थे हमको दुश्मन अपना।
मिलते हो क्यों ऐसे, अब हमसे तुम।।
तब थे क्यों दूर ———————।।

हमने गुजारे थे तब दिन भूखे।
होली, दीवाली हम रहे थे सूखे।।
मनाते थे जश्न तुम, मेरे आँसुओं पर।
तरसते हो क्यों ऐसे, अब हमको तुम।।
तब थे क्यों दूर ———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पल-पल है विराट"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
*सबको भाती ई एम आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*सबको भाती ई एम आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
'कोंच नगर' जिला-जालौन,उ प्र, भारतवर्ष की नामोत्पत्ति और प्रसिद्ध घटनाएं।
'कोंच नगर' जिला-जालौन,उ प्र, भारतवर्ष की नामोत्पत्ति और प्रसिद्ध घटनाएं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्द को उसके
दर्द को उसके
Dr fauzia Naseem shad
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
*Author प्रणय प्रभात*
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
बेटी को जन्मदिन की बधाई
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...