Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

कमियों पर

कमियों पर
लालसा,
और लालसा
की प्राप्ति
पर संतोष
ही जिन्दगी है..
…RJKING👑

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
How do you want to be loved?
How do you want to be loved?
पूर्वार्थ
संसार चलाएंगी बेटियां
संसार चलाएंगी बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
शीत लहर
शीत लहर
Madhu Shah
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"डर"
Dr. Kishan tandon kranti
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
हर शायर जानता है
हर शायर जानता है
Nanki Patre
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
*हम तो हम भी ना बन सके*
*हम तो हम भी ना बन सके*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
THE ANT
THE ANT
SURYA PRAKASH SHARMA
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
केवल पंखों से कभी,
केवल पंखों से कभी,
sushil sarna
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
"मन की संवेदनाएं: जीवन यात्रा का परिदृश्य"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...