Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Apr 2023 · 1 min read

कभी सुलगता है, कभी उलझता है

कभी सुलगता है, कभी उलझता है
जिन्दगी का मसला कब सुलझता है ।
a m prahari

241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
कभी कभी सच्चाई भी भ्रम सी लगती हैं
कभी कभी सच्चाई भी भ्रम सी लगती हैं
ruby kumari
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
*Author प्रणय प्रभात*
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
कौन है वो .....
कौन है वो .....
sushil sarna
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
मै बेरोजगारी पर सवार हु
मै बेरोजगारी पर सवार हु
भरत कुमार सोलंकी
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खत
खत
Punam Pande
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
आज़ादी के दीवानों ने
आज़ादी के दीवानों ने
करन ''केसरा''
Loading...