Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ

कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
क्या मैं जितना अजीज था, अब भी उतना अजीज हूँ???
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-508💐
💐प्रेम कौतुक-508💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हकीकत  पर  तो  इख्तियार  है
हकीकत पर तो इख्तियार है
shabina. Naaz
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
दिल से रिश्ते
दिल से रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
नौका विहार
नौका विहार
Dr Parveen Thakur
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
ड्यूटी और संतुष्टि
ड्यूटी और संतुष्टि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आंखें
आंखें
Ghanshyam Poddar
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो इक नदी सी
वो इक नदी सी
Kavita Chouhan
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
आज तू नहीं मेरे साथ
आज तू नहीं मेरे साथ
हिमांशु Kulshrestha
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
Rj Anand Prajapati
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
कवि दीपक बवेजा
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*Author प्रणय प्रभात*
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
Loading...