Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।

कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जग चलायें न चलो,ईश इशारा
देखकर।।
धर्म को धारण करो, कुपथ मार्गी
न हो।
ध्रुव तारे की तरह, पुष्प अर्पित हो देखकर।।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झांसी उ•प्र•

285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
और तो क्या ?
और तो क्या ?
gurudeenverma198
महाकाल हैं
महाकाल हैं
Ramji Tiwari
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
श्री राम जी अलौकिक रूप
श्री राम जी अलौकिक रूप
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हमारे विपक्ष में
हमारे विपक्ष में
*प्रणय प्रभात*
अब बस हमारे दिल में
अब बस हमारे दिल में
Dr fauzia Naseem shad
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
पास तो आना- तो बहाना था
पास तो आना- तो बहाना था"
भरत कुमार सोलंकी
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
2793. *पूर्णिका*
2793. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Manisha Manjari
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
Rj Anand Prajapati
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
Taj Mohammad
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
Loading...