Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी

कभी तो तुम्हे ,मेरी याद आयेगी।
होगे जब तन्हा मेरी याद सतायेगी

सावन जब जब आयेगा,
काली घटाएं घिर जाएंगी।
बिजली चमकेगी आसमां में,
मेरी शक्ल याद आयेगी।
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी,
होगे जब तन्हा मेरी याद सतायेगी

जाओगे जब बिस्तर पर,
रात अंधेरी हो जायेगी।
ढूंढोगे जब तुम मुझको,
मेरी महक तुम्हे आयेगी।
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी,
होगे जब तन्हा मेरी याद सतायेगी

होगे न जब इस दुनिया मे,
बस मेरी राख रह जायेगी।
ढूंढोगे जब राख मे मुझको,
मेरी शक्ल नजर आयेंगी।।
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी,
होगे जब तन्हा मेरी याद सतायेगी

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
*उधो मन न भये दस बीस*
*उधो मन न भये दस बीस*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
गुप्तरत्न
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
चित्रगुप्त सत देव को,करिए सभी प्रणाम।
चित्रगुप्त सत देव को,करिए सभी प्रणाम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
ପରିଚୟ ଦାତା
ପରିଚୟ ଦାତା
Bidyadhar Mantry
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
बच्चे ही अच्छे हैं
बच्चे ही अच्छे हैं
Diwakar Mahto
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
Hello
Hello
Yash mehra
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
Lokesh Sharma
2960.*पूर्णिका*
2960.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गलतफहमी
गलतफहमी
Sanjay ' शून्य'
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
प्रार्थना
प्रार्थना
Shally Vij
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
Loading...