Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2024 · 1 min read

कभी-कभी नींद बेवजह ही गायब होती है और हम वजह तलाश रहे होते ह

कभी-कभी नींद बेवजह ही गायब होती है और हम वजह तलाश रहे होते हैं ऐसा नहीं है की कोई वजह ही हो पर खाली मन अक्सर बेतुकी की बातें सोचने लगता है, फिर शुरू होता है जद्दोजहद का सिलसिला, जिसमें हम खुद के साथ साथ अपने अतीत, भविष्य तथा वर्तमान तीनों का मूल्यांकन करने लगते हैं,
खैर जिंदगी के इतने मौसम देखने के बाद यह बात तो समझ आ गई है की मायूसी किसी वक्त और किसी वजह की मोहताज नहीं होती है मायूसी को जब छाना होता है वह बेवजह ही छा जाती है लेकिन खुशियों के साथ ऐसा नहीं होता है खुशियां वजह और वक्त दोनों की मोहताज होती है।
खैर करने को बहुत सारी बातें हैं, लेकिन फिर कभी, आज तो बस मैं और यह तन्हाई वाली वीरान राते ही एक दूसरे के साथी हैं।

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मत रो लाल
मत रो लाल
Shekhar Chandra Mitra
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
देखा है जब से तुमको
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चित्र और चरित्र
चित्र और चरित्र
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
गाय
गाय
Vedha Singh
2752. *पूर्णिका*
2752. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
चली ⛈️सावन की डोर➰
चली ⛈️सावन की डोर➰
डॉ० रोहित कौशिक
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
"सब्र का इम्तिहान लेता है।
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
आर.एस. 'प्रीतम'
पोता-पोती बेटे-बहुएँ,आते हैं तो उत्सव है (हिंदी गजल/गीतिका)
पोता-पोती बेटे-बहुएँ,आते हैं तो उत्सव है (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीत
गीत
Kanchan Khanna
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
Loading...