Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

कब तक कौन रहेगा साथी

, कब तक कौन रहेगा साथी
——————————-
जीवन में साथी मिलते हैं साथ निभाने को ।
लेकिन साथ छोड़ जाते हैं परगति जाने को।।

योग-सु-योग मिले ,तब, साथी मिलते हैं —
योग कौन सा विकल रहे , मन दर्शन पाते हैं !

दुनियां पीछे रह जाये,जब, साथी मिल जाये –
जगह अहम को मन मिल जाये,दर्प दिखाने को!

स्याह रात के घुप्प अंधेरे भी ना डरा सके —
जब साथी का साथ मिला था, साथ निभाने को!

दिन में रात ,रात में दिन था,साथी की दम पर-
नेह धार ने बदन भिंगोया ,मन तक जाने को !

शीत लहरियों की सुग-बुग ने,तन को दग्ध किया-
लेकिन मन को झुका न पायी,बे-बश हो जाने को !

अब क्या अब तो पिछली बातें,यादें बन उभरें –
तन-मन कैसे वश में आया ,तर्पन पाने को !

अर्पन-तर्पन का रिश्ता है,अर्पन है तो तर्पन है-
साथी बिन अर्पन किस को हो,तर्पन पाने को !

साथी के जाने से यूँ तो , जीवन थम जाता –
किन्तु सृष्टि क्या कभी रुकी है,पिछला पाने को !

कब -तक कौन रहेगा साथी,समय बताएगा !
यादें,साथ हुआ करती हैं , समय बिताने को !!
——————————————————-
आशु-चिंतन / स्वरूप दिनकर
16/12/2023
——————————————————–

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ramswaroop Dinkar
View all
You may also like:
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पूर्वार्थ
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
#KOTA
#KOTA
*प्रणय प्रभात*
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
ज़िंदगी ने कहां
ज़िंदगी ने कहां
Dr fauzia Naseem shad
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
Dr.sima
कोई चाहे तो पता पाए, मेरे दिल का भी
कोई चाहे तो पता पाए, मेरे दिल का भी
Shweta Soni
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
मतलब छुट्टी का हुआ, समझो है रविवार( कुंडलिया )
मतलब छुट्टी का हुआ, समझो है रविवार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
gurudeenverma198
हमारा अपना........ जीवन
हमारा अपना........ जीवन
Neeraj Agarwal
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राम का न्याय
राम का न्याय
Shashi Mahajan
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...