Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

कब गुज़रा वो लड़कपन,

कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब हम हुए जवान
मिले बुढ़ापे में कहाँ,
ज़िन्दगी के निशान
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
सच ज़िंदगी के रंगमंच के साथ हैं
सच ज़िंदगी के रंगमंच के साथ हैं
Neeraj Agarwal
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
DrLakshman Jha Parimal
संतुलन
संतुलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहा किसी ने आ मिलो तो वक्त ही नही मिला।।
कहा किसी ने आ मिलो तो वक्त ही नही मिला।।
पूर्वार्थ
"कुछ लोग हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
*कौन-सो रतन बनूँ*
*कौन-सो रतन बनूँ*
Poonam Matia
"जीवन की अंतिम यात्रा"
Pushpraj Anant
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
नारी सम्मान
नारी सम्मान
Sanjay ' शून्य'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
2687.*पूर्णिका*
2687.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
■नया दौर, नई नस्ल■
■नया दौर, नई नस्ल■
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...