Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

कबीर के राम

रोम-रोम में जो रमता
वही राम है कबीरों का
ज़र्रे-ज़र्रे में जो बसता
वही राम है फकीरों का…
(१)
किसी मंदिर या मस्जिद का
मोहताज नहीं है वह
चप्पे-चप्पे में जो रहता
वही राम है फकीरों का
रोम-रोम में जो रमता
वही राम है कबीरों का…
(२)
सबकी रक्षा वह करता
उसकी रक्षा कौन करेगा
घट-घट में जो दिखता
वही राम है फकीरों का
रोम-रोम में जो रमता
वही राम है कबीरों का…
(३)
चाहे कोई दरिया हो वह
मिलेगा आख़िर सागर में
कतरे-कतरे में जो बहता
वही राम है फकीरों का
रोम-रोम में जो रमता
वही राम है कबीरों का…
(४)
ज़ात, धरम और नस्ल की
सरहद में उसको मत बांटो
जन-जन में जो जीता
वही राम है फकीरों का
रोम-रोम में जो रमता
वही राम है कबीरों का…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#bollywood #गीतकार #shayari
#हल्ला_बोल #जनवादी #जातिवाद
#kabir #Ram #Communalism
#riots #Secular #lyricist #lyrics

Language: Hindi
Tag: गीत
529 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Madhu Shah
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#भूली बिसरी यादे
#भूली बिसरी यादे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
भुला ना सका
भुला ना सका
Dr. Mulla Adam Ali
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
Bidyadhar Mantry
*मां*
*मां*
Dr. Priya Gupta
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
बेगुनाही एक गुनाह
बेगुनाही एक गुनाह
Shekhar Chandra Mitra
संस्कार में झुक जाऊं
संस्कार में झुक जाऊं
Ranjeet kumar patre
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बेशक आजमा रही आज तू मुझको,मेरी तकदीर
बेशक आजमा रही आज तू मुझको,मेरी तकदीर
Vaishaligoel
"साकी"
Dr. Kishan tandon kranti
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
शब्द ढ़ाई अक्षर के होते हैं
शब्द ढ़ाई अक्षर के होते हैं
Sonam Puneet Dubey
चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
।। मतदान करो ।।
।। मतदान करो ।।
Shivkumar barman
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*प्रेम कविताएं*
*प्रेम कविताएं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ सामयिक आलेख-
■ सामयिक आलेख-
*प्रणय प्रभात*
रुख के दुख
रुख के दुख
Santosh kumar Miri
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
कवि रमेशराज
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
Loading...