Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया

कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
*****************************************

तलब उठी पीने को हाला पहुँच गया मै मधुशाला।
तड़फ गया प्यासा मन मेरा पहुँच गया मै मधुशाला।

कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया,
जलन बहुत छलनी था सीना पहुंच गया मै मधुशाला।

जला सड़ा मुखड़ा भार्या का विचार गया मन पगला,
खड़े – खड़े जैसे पथ भटका पहुँच गया मै मधुशाला।

खड़ा अकेला चिंता में डूबा मय पीने को मन व्याकुल,
नशा बड़ा ही मन को भाया पहुँच गया मै मधुशाला।

मिला बहाना जो देखा यार मिले जिसे जमाना बीता,
मिला पुराना साथी प्यारा पहुँच गया मै मधशाला।

चला डगर मनसीरत झट से रोक न पाया तन मन वो,
बड़ी सुहानी आई बेला पहुँच गया मै मधुशाला।
*****************************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
दिखता नही किसी को
दिखता नही किसी को
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
कथित साझा विपक्ष
कथित साझा विपक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
2260.
2260.
Dr.Khedu Bharti
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
💐प्रेम कौतुक-241💐
💐प्रेम कौतुक-241💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
पुस्तक
पुस्तक
Vedha Singh
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
"राखी के धागे"
Ekta chitrangini
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
होली...
होली...
Aadarsh Dubey
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
मन के भाव
मन के भाव
Surya Barman
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
किताबों से ज्ञान मिलता है
किताबों से ज्ञान मिलता है
Bhupendra Rawat
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
Loading...