Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान

कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
इस कलयुग में ये करे, मानव का कल्याण
जय बोलो श्री राम की, बोलो जय श्री राम

जय जय सीता राम जय, जय जय सीता राम

सतयुग में श्री राम का, हुआ तभी अवतार
दम्भी रावण का उन्हें, करना था संहार
कभी न करना चाहिए, ताकत पर अभिमान
कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान

सीता को जिसने हरा, किया अधर्मी काम
पूरे ही कुल को मिला, उसका दुष्परिणाम
दुर्जन को मिलती सज़ा, विधि का यही विधान
कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
जय हो सीता राम जय, जय हो सीता राम।

रावण बल अभिमान में, रहता था दिन रात
समझ नहीं पाया वही, बस इतनी सी बात
है मायावी भी बहुत, महाबली हनुमान
कथा राम भगवान की,सुनो लगाकर ध्यान
जय हो सीता राम जय, जय हो सीता राम।

नहीं विभीषण की सुनी, दिया उसे भी त्याग
पाई आखिर मौत ही, लगी नाभि में आग
रामायण में है छिपा, शब्द-शब्द में ज्ञान
कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
जय जय सीता राम जय जय जय सीता राम।

होती हार अधर्म की, यही कथा का सार
करती है ये प्रेम का, हर दिल में संचार
करना सिखलाती हमें, मर्यादा का मान
कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
जय जय सीता राम जय जय जय सीता राम।

5-10-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 1248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
मेरे हृदय में तुम
मेरे हृदय में तुम
Kavita Chouhan
*घट-घट वासी को को किया ,जिसने मन से याद (कुंडलिया)*
*घट-घट वासी को को किया ,जिसने मन से याद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
बाक़ी हो ज़िंदगी की
बाक़ी हो ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
Dr Archana Gupta
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
सुन सको तो सुन लो
सुन सको तो सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
"न टूटो न रुठो"
Yogendra Chaturwedi
Pyari dosti
Pyari dosti
Samar babu
■ आज की प्रेरणा
■ आज की प्रेरणा
*Author प्रणय प्रभात*
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
नियत समय संचालित होते...
नियत समय संचालित होते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr Shweta sood
दुख
दुख
Rekha Drolia
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
Rituraj shivem verma
माँ
माँ
meena singh
प्यारे गुलनार लाये है
प्यारे गुलनार लाये है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
Loading...