Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 1 min read

कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां

कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
दर्ज़ी भी कर दे मना,जिसे सीलने से।
फकत अपने वंश की खातिर सह रहा है,
वर्ना फ़र्क नहीं पड़ता लड़कियों के जीने से।
रख कर उपवास दिखावे का फिर वह
खींच लेता है आंचल,मां के सीने से।
सिसकियों की आवाजें फज़ा में घुली है,
मिटतीं नहीं है,जो कभी मिटाने से ।
आधुनिकता ने नई ऊंचाईयां दि है हमें,
गर्त में धंसने को नहीं कहा है किसी ने।

2 Likes · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
पिता
पिता
Buddha Prakash
"आखिर क्यों?"
Dr. Kishan tandon kranti
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
मायापति की माया!
मायापति की माया!
Sanjay ' शून्य'
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Sidhartha Mishra
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
*पर्वतों की इसलिए, महिमा बहुत भारी हुई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*पर्वतों की इसलिए, महिमा बहुत भारी हुई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
#जयंती_पर्व
#जयंती_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आईना प्यार का क्यों देखते हो
आईना प्यार का क्यों देखते हो
Vivek Pandey
खिलौनो से दूर तक
खिलौनो से दूर तक
Dr fauzia Naseem shad
*जीवन जीने की कला*
*जीवन जीने की कला*
Shashi kala vyas
Loading...