Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

कजरी

कजरी

पियवा चलौ चली वोसरवा रिमझिम पड़े फुहरवा नाय

नभ में श्याम घटा घन छाए
बिजुरी चमक चमक डरवाए
धूमिल होत कजरवा नाय रामा
धूमिल होत कजरवा नाय
पियवा चलौ चली वोसरवा
रिमझिम पड़े फुहरवा नाय

सनन सनन पुरवइया डोलै
तन में प्रेम काम रस घोलै
चढ़तै जात जहरवा नाय रामा
पियवा चलौ चली बोसरवा
रिमझिम पड़े फुहरवा नाय

बूंद पड़े पिया नींद न आवै
ठंडी बयरिया मन अलसावै
उड़ उड़ जाए अंचरवा नाय रामा
पियवा चलौ चली वोसरवा

रिमझिम पड़े फुहरवा नाय

प्रीतम हमरी मानौ बतिया
बहिरे बैठि न काटौ रतिया
करै मनुहार सिंगरवा नाय रामा
पियवा चलौ चली वोसरवा
रिमझिम पड़े फुहरवा नाय
पियवा०—–

प्रीतम श्रावस्तवी
श्रावस्ती (उ०प्र०)

Language: Hindi
Tag: गीत
325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विद्यार्थी के मन की थकान
विद्यार्थी के मन की थकान
पूर्वार्थ
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
मन का समंदर
मन का समंदर
Sûrëkhâ
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
Paras Nath Jha
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
मैं भी साथ चला करता था
मैं भी साथ चला करता था
VINOD CHAUHAN
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
"इस्तिफ़सार" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
Shweta Soni
शीत लहर
शीत लहर
Madhu Shah
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
ज़िंदगी इस क़दर
ज़िंदगी इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
रब करे हमारा प्यार इतना सच्चा हो,
रब करे हमारा प्यार इतना सच्चा हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
जो पड़ते हैं प्रेम में...
जो पड़ते हैं प्रेम में...
लक्ष्मी सिंह
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
A Hopeless Romantic
A Hopeless Romantic
Vedha Singh
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
గురు శిష్యుల బంధము
గురు శిష్యుల బంధము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...