Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 9, 2022 · 1 min read

ओ भोले भण्डारी

ओ भोले भण्डारी
तेरी लीला अपरम्पार है
रहते हो कैलाश पर तुम
पर हर जन जन पर रखते ध्यान हो
ओ भोले भण्डारी
तेरी लीला अपरम्पार है
इस जग के हर जन जन को
तुम मानते हो अपना संतान
उन पर कोई कष्ट न आए
तुम रखते हो उसका ध्यान
तेरे नाम के एक अक्षर ऊँ में
छिपा हुआ है सारा ब्रह्माण्ड
ओ भोले भण्डारी
तेरी लीला अपरम्पार है
पीकर तुमने विष का प्याला
दिया हमें है प्राण
तेरे जैसा इस जग मे
दानी नही है यहाँ पर कोई
ओ भोले भण्डारी
तेरी लीला अपरम्पार है
तेरी लीला को समझ सका
कहाँ यह जग संसार है
भक्तो पर सदा ही
तेरी कृपा दृष्टि रहती है
तु कब क्या करेगा
कहाँ जाने यह संसार है।
ओ भोले भण्डारी
तेरी लीला अपरम्पार।।

~अनामिका

2 Likes · 53 Views
You may also like:
सीख
Pakhi Jain
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
1971 में आरंभ हुई थी अनूठी त्रैमासिक पत्रिका "शिक्षा और...
Ravi Prakash
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
"शौर्य"
Lohit Tamta
सुकून सा ऐहसास...
Dr.Alpa Amin
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
समझना आपको है
Dr fauzia Naseem shad
भूख
Varun Singh Gautam
दिल से मदद
Dr fauzia Naseem shad
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
शहीद होकर।
Taj Mohammad
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
सत्य कुमार प्रेमी
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
ज़िंदगी आईने के जैसी है
Dr fauzia Naseem shad
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...