Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

ऐ सुनो

ऐ सुनो
तुम चाह दोगे
तो जल्द लौट आओगे
अपने पुराने रूप में
खुशियों के दस्तूर में
तुम बस यह बताओ
तेरे जगह मैं होता तो
मेरे लिए हौंसला
कहां से लाते तुम

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
Satyaveer vaishnav
" वतन "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
वसंत ऋतु
वसंत ऋतु
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
भेज भी दो
भेज भी दो
हिमांशु Kulshrestha
पहचान ही क्या
पहचान ही क्या
Swami Ganganiya
2841.*पूर्णिका*
2841.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चील .....
चील .....
sushil sarna
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
Seema Verma
सृष्टि की उत्पत्ति
सृष्टि की उत्पत्ति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
दिल लगाया है जहाॅं दिमाग न लगाया कर
दिल लगाया है जहाॅं दिमाग न लगाया कर
Manoj Mahato
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
समाजसेवा
समाजसेवा
Kanchan Khanna
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
sudhir kumar
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*प्रणय प्रभात*
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरी जुस्तुजू
तेरी जुस्तुजू
Shyam Sundar Subramanian
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...