Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

एहसास

एहसास
दिल की तरंगे कुछ यूं छेड़ जाते हो।
आते हो एक पल के लिए,
एहसास हर वक्त के लिए छोड़ जाते हो ।

2 Likes · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
मेरे जीवन के इस पथ को,
मेरे जीवन के इस पथ को,
Anamika Singh
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
"हूक"
Dr. Kishan tandon kranti
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
Neelam Sharma
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
मन और मस्तिष्क
मन और मस्तिष्क
Dhriti Mishra
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
Shweta Soni
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
श्री रमेश जैन द्वारा
श्री रमेश जैन द्वारा "कहते रवि कविराय" कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य
Ravi Prakash
दरकती ज़मीं
दरकती ज़मीं
Namita Gupta
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Forever
Forever
Vedha Singh
सज़ा-ए-मौत भी यूं मिल जाती है मुझे,
सज़ा-ए-मौत भी यूं मिल जाती है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चुनाव 2024....
चुनाव 2024....
Sanjay ' शून्य'
मैं तो महज आवाज हूँ
मैं तो महज आवाज हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...