Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

एहसासे कमतरी का

यारब अपने बंदो की तू भूख मिटा दे ।
एहसासे कमतरी का ये एहसास मिटा दे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
10 Likes · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
*Author प्रणय प्रभात*
पूजा नहीं, सम्मान दें!
पूजा नहीं, सम्मान दें!
Shekhar Chandra Mitra
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
माँ वो है जिसे
माँ वो है जिसे
shabina. Naaz
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
2466.पूर्णिका
2466.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
फिर भी करना है संघर्ष !
फिर भी करना है संघर्ष !
जगदीश लववंशी
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जल धारा में चलते चलते,
जल धारा में चलते चलते,
Satish Srijan
*मिट्टी की वेदना*
*मिट्टी की वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...