Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 2 min read

एक ही भूल

काम्या आज बहुत दुखी थी आज सुबह सुबह फिर से उसकी केतन से कहासुनी हुई थी, ये तो अब आम बात हो गई थी। किसी न किसी बात पर उनके बीच आए दिन झगड़े होते रहते थे लेकिन फिर भी वो अब हालात से समझौता करते हुए चुपचाप बिना किसी से कुछ कहे जिन्दगी बीता रही थी।

इन सब की शुरुआत हुई थी उसकी ही एक गलती की वजह से, जिसका अंदाजा उसे बाद में हुआ। जब केतन अपने फैमिली के साथ उसके यहां रिश्ता लेकर आया था तब उसे काम्या बहुत पसंद आई थी और उसके बाद से उनके बीच फोन पर बातचीत शुरू हो गई थी।

बातचीत तक ही अगर ये सिलसिला चलता रहा होता तो अच्छा था, लेकिन फोन पर बातचीत का ये सिलसिला अब धीरे धीरे अब मिलने जुलने तक पहुंचने लगा था और दो चार बार बाहर कैफे गार्डन में मिलने के बाद अब एक दिन काम्या ने उसे घर में भी बुला लिया।

उस दिन काम्या के घर पर कोई भी नहीं था क्योंकि काम्या की मम्मी उसके छोटे भाई को लेकर अपने मायके किसी कार्यक्रम में शामिल होने गई थी और आज की रात वो अपने घर पर अकेली थी।

अकेले रह पाने की बात पर काम्या ने कह दिया था कि वो अपनी सहेली को बुला लेगी और दोनों रह लेंगे। जैसे ही मम्मी गई काम्या ने केतन को अपने घर बुला लिया और उसके बाद वही हुआ जिसका डर था।

काम्या और केतन घर में अकेले थे और ऐसे में दो जवां जिस्म एक दूसरे से दूर कब तक रह सकते थे, केतन ने शुरुआत करने की कोशिश की लेकिन काम्या ने उसे मना करने की कोशिश की और कहा शादी से पहले नहीं। इस पर केतन ने कहा शादी भी हमारी अब होनी ही है तो क्यों डरना, इस पर काम्या ने अब हामी भरी और खुद को उसकी बाहों में सौंप दिया था। उसके बाद काम्या और केतन ने अपनी सारी हदें उस दिन लांघ दी थी।

यही एक भूल उसके जीवन की सबसे बड़ी गलती साबित हुई थी, क्योंकि इस घटना के बाद से केतन के हाव भाव थोड़े बदले हुए लगने लगे। अब शादी तो उसने कर ली थी लेकिन बात बात पर काम्या के कैरेक्टर को लेकर कमेन्ट किया करता था कि उसके और भी कहीं रिलेशन रहे होंगे, काम्या बहुत सफाई देती लेकिन वो नहीं मानता, उसका तर्क होता जो लड़की शादी से पहले खुद को किसी के लिए समर्पित कर सकती है वो किसी और से भी कुछ तो कर ही सकती है।

केतन के इस तरह के बेफिजूल इलजाम सुनकर काम्या का मन ग्लानि से भर जाता और वो अपनी उस एक गलती को याद करते हुए पछताती रहती। अब वो कर भी क्या सकती थी और अपनी उस एक ही भूल की सजा उसे पूरे जीवन भर मिलने वाली थी।

✍️मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर छत्तीसगढ़ मो.नं.9827597473

1 Like · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
शहर के लोग
शहर के लोग
Madhuyanka Raj
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मानस हंस छंद
मानस हंस छंद
Subhash Singhai
सफलता
सफलता
Babli Jha
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
क्या
क्या
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
Shweta Soni
■ आज का संकल्प...
■ आज का संकल्प...
*प्रणय प्रभात*
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
Loading...