Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि …

एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि …
तुमसे बेहतर तुम्हें कोई नही जानता ,
तुम्हारे अलावा तुम्हारा कोई विश्वासपात्र नही है
और
तुम्हारे सिवाय तुम्हें कोई भी नही हरा सकता ।

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
राष्ट्रीय गणित दिवस....
राष्ट्रीय गणित दिवस....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल। आदमी बिसर जाएगा
ग़ज़ल। आदमी बिसर जाएगा
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
अवध से राम जाते हैं,
अवध से राम जाते हैं,
अनूप अम्बर
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
Er.Navaneet R Shandily
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
Vishal babu (vishu)
स्वयं को तुम सम्मान दो
स्वयं को तुम सम्मान दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
लफ़्ज़ों में हमनें
लफ़्ज़ों में हमनें
Dr fauzia Naseem shad
2753. *पूर्णिका*
2753. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
काबिलियत पर शक
काबिलियत पर शक
Shekhar Chandra Mitra
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
Shiva Awasthi
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
श्री रामलला
श्री रामलला
तरुण सिंह पवार
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
#क़तआ
#क़तआ
*Author प्रणय प्रभात*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जरा काबू में रह प्यारी,चटोरी बन न तू रसना (मुक्तक)*
*जरा काबू में रह प्यारी,चटोरी बन न तू रसना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...