Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2022 · 1 min read

एक शेर

एक शेर

सभी की चाहतों को तो मैं पूरी कर नहीं सकता
बहुत से साजिशें लेकर भी मेरे पास आते हैं
————————-
रचयिता: रवि प्रकाश

Language: Hindi
Tag: शेर
139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
वृद्धाश्रम का अब मिला,
वृद्धाश्रम का अब मिला,
sushil sarna
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
*प्रणय प्रभात*
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
प्रेम किसी दूसरे शख्स से...
प्रेम किसी दूसरे शख्स से...
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
जमी से आसमा तक तेरी छांव रहे,
जमी से आसमा तक तेरी छांव रहे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
रिश्ते अब रास्तों पर
रिश्ते अब रास्तों पर
Atul "Krishn"
"न्याय-अन्याय"
Dr. Kishan tandon kranti
23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
Loading...