Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

“एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है

“एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
जितनी कि एक पौधे को पानी की।

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करबो हरियर भुंईया
करबो हरियर भुंईया
Mahetaru madhukar
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
हर दुआ में
हर दुआ में
Dr fauzia Naseem shad
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
"बात अपनो से कर लिया कीजे।
*प्रणय प्रभात*
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यूँ ही नहीं फहरते परचम
यूँ ही नहीं फहरते परचम
Dr. Kishan tandon kranti
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
कवि रमेशराज
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
Dr. Mahesh Kumawat
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
लक्ष्य है जो बनाया तूने, उसकी ओर बढ़े चल।
लक्ष्य है जो बनाया तूने, उसकी ओर बढ़े चल।
पूर्वार्थ
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मान भी जाओ
मान भी जाओ
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
संस्कार
संस्कार
Rituraj shivem verma
Loading...