Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2022 · 1 min read

एक बे सहारा वृद्ध स्त्री की जीवन व्यथा।

÷ एक बे सहारा वृद्ध स्त्री की जीवन व्यथा÷

उसकी अंत: ह्रदय वेदना,
मेरी कलम ना लिख पाई है,,,
तुम पढ़कर स्वयं में समझना,
मेरे शब्दों में ना इतनी गहराई है!!!

शायद मैं शब्दों से लिखकर,
उसके भाव ना ला पाऊं,,,
क्योंकि मेरी नज़रे भी,
भीड़ की तरह तमाशाई है!!!

वो लोगों को देती रही,
ईश्वर के नाम की दुहाई,,,
पर कोई जिंदगी ना,
उसकी मदद को आगे आई है!!!

हर स्वप्न उसका टूटा है,
उसके हर रिश्ते में दरार आई है,,,
गरीबी उसकी जिंदगी में,
बस अभिशाप ही लेकर आई है!!!

चुपचाप अपने ही आप में,
वह खोई रहती है,,,
चार दिन से उसे ना देखा है,
जानें कहां गई वो नज़र ना आई हैं!!!

मालूम जो किया जाकर,
उसके पते पर तो पता चला,,,
दो दिन पहले ही उसकी जिंदगी,
सांसों से हारकर मौत को पाई है!!!

सोचता हूं अच्छा ही हुआ,
जिन्दगी उसकी दुखों से भरी थी,,,
वो कब तक ऐसे जीती अपना जीवन,
मौत ने उसकी बद नसीबी मिटाई है!!!
हाल उसका जानकर जानें क्यों,
मेरी भी आंखें आंसुओं से भर आई हैं!!!

ताज मोहम्मद
लखनऊ

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अंधा इश्क
अंधा इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
...,,,,
...,,,,
शेखर सिंह
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*आई ए एस फॅंस गए, मंत्री दसवीं फेल (हास्य कुंडलिया)*
*आई ए एस फॅंस गए, मंत्री दसवीं फेल (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
VINOD CHAUHAN
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
वफ़ा के बदले हमें वफ़ा न मिला
वफ़ा के बदले हमें वफ़ा न मिला
Keshav kishor Kumar
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#संघ_शक्ति_कलियुगे
#संघ_शक्ति_कलियुगे
*प्रणय प्रभात*
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
Paras Nath Jha
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आस्था
आस्था
Adha Deshwal
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
Loading...