Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

एक बेटी हूं मैं

एक बेटी हूॅं मैं………
सही हो कर भी गलत हूॅं मैं,
ज़रूरत के वक्त अपनों के बीच
अकेली खड़ी रह जाती हूॅं मैं,
शायद इसलिए क्योंकि…
एक बेटी हूॅं…..मैं..!

अपने पापा की परी हूं मैं
बेटे से कम आंकता है समाज
अबला हूं इसलिए धक्के खाती हूं मैं
क्योंकि एक बेटी हूं …मैं….।

जन्म लेते ही आडंबर से जकड़ जाती हूं मैं,
बुरी नजरों से देखने वालों से,
बचकर संघर्ष करती हूं मैं,
क्योंकि एक बेटी हूं ….मैं…….।

लड़कों से ना कम नाम कमाती हूं मैं,
परंतु जज़्बात की जंजीर में
अनदेखा जिंदगी जीती हूं मैं
क्योंकि एक बेटी हूं …मैं…।

रानी लक्ष्मी बाई,सावित्री बाई फुले
जैसी चमत्कार करती हूं मैं
तब भी शर्मिंदगी महसूस करती हूं मैं
क्योंकि एक बेटी हूं… मैं..।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का
दिखावा झेलती हूं मैं
भावुक होकर शब्दों में बह जाती हूं मैं
सरेआम बाजार में बिक जाती हूं मैं
क्योंकि एक बेटी हूं ….मैं…।

समाज की शान मुझे कहते है लोग
आबरू से खिलवाड़ करते है लोग
उनके नजरों में बदनाम होती हूं मैं
क्योंकि एक बेटी हूं… मैं..।
सच में एक बेटी हूं….मैं…..!!

एक मीठी सी मुस्कान हैं बेटी,
यह सच है कि मेहमान हैं बेटी,
उस घर की पहचान बनने चली
जिस घर से अनजान हैं बेटी.

अनिल “आदर्श”
कोचस, रोहतास,बिहार

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 1424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
Buddha Prakash
मेरा विज्ञान सफर
मेरा विज्ञान सफर
Ms.Ankit Halke jha
कारकुन
कारकुन
Satish Srijan
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
माय
माय
Acharya Rama Nand Mandal
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
Neelam Sharma
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*आवारा कुत्तों से बचना, समझो टेढ़ी खीर (गीत)*
*आवारा कुत्तों से बचना, समझो टेढ़ी खीर (गीत)*
Ravi Prakash
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"कष्ट"
नेताम आर सी
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
Smriti Singh
मदद
मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
Loading...