Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है

एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
पत्नी भक्त है पति अंधभक्त है
और पति आज से मै वही करूंगा जो तू कहेगी पर पत्नी आत्मनिर्भर है

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Kumud Srivastava
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
*ऐनक (बाल कविता)*
*ऐनक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
" संगत "
Dr. Kishan tandon kranti
नारी को सदा राखिए संग
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
Pratibha Pandey
पिता का प्यार
पिता का प्यार
Befikr Lafz
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
Sushila joshi
धर्म के नाम पे लोग यहां
धर्म के नाम पे लोग यहां
Mahesh Tiwari 'Ayan'
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
यादों की तुरपाई कर दें
यादों की तुरपाई कर दें
Shweta Soni
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
Neelam Sharma
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
ख़ान इशरत परवेज़
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बन्दिगी
बन्दिगी
Monika Verma
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
#नया_भारत 😊😊
#नया_भारत 😊😊
*प्रणय प्रभात*
Loading...