Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

एक गलत निर्णय हमारे वजूद को

एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
भी मिटा सकता है, पर्वतों के
लाख मना करने के बाद भी
नदी ने सागर से मिलने का
निर्णय किया और अंततः
उसे मिटना पड़ा।
a m prahari

147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" भींगता बस मैं रहा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
आपके स्वभाव की
आपके स्वभाव की
Dr fauzia Naseem shad
समाज का डर
समाज का डर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
मैंने एक चांद को देखा
मैंने एक चांद को देखा
नेताम आर सी
2505.पूर्णिका
2505.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
*वंदे मातरम् (मुक्तक)*
*वंदे मातरम् (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"सोचो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ वृक्ष लगाओ जी..
आओ वृक्ष लगाओ जी..
Seema Garg
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
बसंती बहार
बसंती बहार
इंजी. संजय श्रीवास्तव
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बहुत तरासती है यह दुनिया जौहरी की तरह
बहुत तरासती है यह दुनिया जौहरी की तरह
VINOD CHAUHAN
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
*प्रणय प्रभात*
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
नज़्म _मिट्टी और मार्बल का फर्क ।
नज़्म _मिट्टी और मार्बल का फर्क ।
Neelofar Khan
Loading...