Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया

एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक साधक की साधना ने, आज यहाँ एक मार्ग बनाया||

यही प्रार्थना उस परम सत्ता से, अपने हर उत्कर्ष को पाए
साहित्यपीडिया एक मंच जहाँ, हिंदी नवीन प्रसून खिलाये||

प्रकाशन लेखन या विज्ञापन, निष्पक्ष रहे इनक संचालन
उत्तम सोच पुनीत कार्य संग, अदभुत इनका वाणी संपादन||

ईश्वर अनुकम्पा लिखवाये, साहित्य सृजन शिखर पा जाये
साहित्यपीडिया के शीर्ष स्वप्न, को साकार आकार दिलाये ||

7 Likes · 3 Comments · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
दर्दे दिल…….!
दर्दे दिल…….!
Awadhesh Kumar Singh
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
सोचें सदा सकारात्मक
सोचें सदा सकारात्मक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
🙅आज का मैच🙅
🙅आज का मैच🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मनभावन होली
मनभावन होली
Anamika Tiwari 'annpurna '
" परदेशी पिया "
Pushpraj Anant
वो मुझे
वो मुझे "चिराग़" की ख़ैरात" दे रहा है
Dr Tabassum Jahan
तेरा नाम रहेगा रोशन, जय हिंद, जय भारत
तेरा नाम रहेगा रोशन, जय हिंद, जय भारत
gurudeenverma198
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
शाश्वत सत्य
शाश्वत सत्य
Dr.Priya Soni Khare
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
सीख
सीख
Dr.Pratibha Prakash
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कविता
कविता
Rambali Mishra
इन्सान बन रहा महान
इन्सान बन रहा महान
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
मात -पिता पुत्र -पुत्री
मात -पिता पुत्र -पुत्री
DrLakshman Jha Parimal
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
Mohan Pandey
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...