Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।

एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
ये जो भी पंक्तियां है ये मन गढ़त नहीं है।

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
" जुबां "
Dr. Kishan tandon kranti
■ क्यों ना उठे सवाल...?
■ क्यों ना उठे सवाल...?
*Author प्रणय प्रभात*
छोड़ चली तू छोड़ चली
छोड़ चली तू छोड़ चली
gurudeenverma198
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
इश्क़
इश्क़
हिमांशु Kulshrestha
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"अल्फाज दिल के "
Yogendra Chaturwedi
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
*सौम्य व्यक्तित्व के धनी दही विक्रेता श्री राम बाबू जी*
*सौम्य व्यक्तित्व के धनी दही विक्रेता श्री राम बाबू जी*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
* लोकार्पण *
* लोकार्पण *
surenderpal vaidya
ख़ुद से हमको
ख़ुद से हमको
Dr fauzia Naseem shad
रक्तदान पर कुंडलिया
रक्तदान पर कुंडलिया
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
रिश्तों की मर्यादा
रिश्तों की मर्यादा
Rajni kapoor
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
Paras Nath Jha
मन का समंदर
मन का समंदर
Sûrëkhâ
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
Loading...