Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

एक अलग ही दुनिया

एक ..अलग भी …..दुनियाँ
बनाई है……… विधाता ने ।
जैसे ……..
पेड़ की फुनगी हों
जहाँ केवल चिड़ियाँ बैठ सकती हैं।
जैसे………
तितलियों की अनसुनी खिलखिलाहटें
बेख़ौफ़ बिंदास खुशियो के मेले हों।
संग…..
एक-दूजे पर खुल कर आती मुस्काहटें हों
झुमकों-सी डोलती पायजेब-सी छनकती हों।
जैसे……………
स्वर्ण मृग का झूंड अनायास ही
दौड़ पड़े किसी एक दिशा की ओर।

बेटियाँ ऐसी ही भावनाओं का नाम है।
संगीता बैनीवाल

3 Likes · 539 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
2290.पूर्णिका
2290.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
* बिछोना अंत में बनकर, चिता सब को सुलाती है 【मुक्तक 】*
* बिछोना अंत में बनकर, चिता सब को सुलाती है 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
जै जै जग जननी
जै जै जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बेचारे नेता
बेचारे नेता
दुष्यन्त 'बाबा'
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*Author प्रणय प्रभात*
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
*
*"मां चंद्रघंटा"*
Shashi kala vyas
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
Neelam Sharma
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
कवि रमेशराज
वक्त की रेत
वक्त की रेत
Dr. Kishan tandon kranti
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
Loading...